Let’s travel together.

स्‍पेस से धरती पर स्वयं लैंड कर जाएगा लॉन्‍च व्हीकल

23

बैंगलुरु । भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक नई उड़ान भरी है। रविवार सुबह रीयूजेबल लॉन्‍च व्हीकल ऑटोनॉमस लैंडिंग मिशन या आरएलवी-एलईएक्स का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया। राष्ट्रीय अंतरिक्ष एजेंसी ने बताया कि यह परीक्षण कर्नाटक के चित्रदुर्ग में वैमानिकी परीक्षण रेंज (एटीआर) में किया गया। एक बयान में कहा गया है कि  इसी के साथ इसरो ने प्रक्षेपण यान की स्वायत्त लैंडिंग के क्षेत्र में सफलता हासिल कर ली। इसरो ने कहा कि एलईएक्स के साथ ही रीयूजेबल लॉन्‍च के क्षेत्र में भारत अपने लक्ष्य के एक और कदम करीब पहुंच गया। दुनिया में पहली बार एक ‘विंग बॉडी’ को एक हेलीकॉप्टर की मदद से 4.5 किलोमीटर की ऊंचाई पर ले जाया गया और रनवे पर स्वायत्त लैंडिंग के लिए छोड़ा गया। भारतीय वायुसेना के चिनुक हेलीकॉप्टर के जरिये आरएलवी ने भारतीय समयानुसार सुबह सात बजकर 10 मिनट पर (औसत समुद्र तल से) 4.5 किलोमीटर की ऊंचाई तक उड़ान भरी। तय मापदंडों तक पहुंचने के बाद मिशन प्रबंधन कंप्यूटर की कमान के आधार पर आरएलवी को बीच हवा में 4.6 किलोमीटर की क्षैतिज दूरी से छोड़ा गया। स्थिति, वेग, ऊंचाई आदि समेत 10 मापदंडों पर नजर रखी गई और इनके पूरा होने पर आरएलवी को छोड़ा गया। आरएलवी को छोड़े जाने की प्रक्रिया स्वायत्त थी।
आरएलवी ने एकीकृत नेविगेशन, मार्गदर्शन और नियंत्रण प्रणाली का उपयोग करते हुए नीचे उतरना शुरू किया और उसने भारतीय समयानुसार पूर्वाह्न 7 बजकर 40 मिनट पर स्वायत्त तरीके से लैंडिंग की। स्वायत्त लैंडिंग की प्रक्रिया अंतरिक्ष पुन: प्रवेश यान की लैंडिंग संबंधी सटीक शर्तों के तहत की गई। बयान में कहा गया है कि आरएलवी एलईएक्स के लिए विकसित समकालीन प्रौद्योगिकियों के अनुकूल ढलना इसरो के अन्य प्रक्षेपण यानों को भी अधिक किफायती बनाता है। इसरो ने इससे पहले मई 2016 में एचईएक्स (हाइपरसोनिक उड़ान प्रयोग) मिशन के तहत आरएलवी-टीडी यान की पुन: प्रवेश की क्षमता का सफल परीक्षण किया था, जो पुन: प्रयोज्य प्रक्षेपण यान विकसित करने की दिशा में महत्वपूर्ण उपलब्धि है। इसरो के अलावा भारतीय वायुसेना, सेना उड़न योग्यता और प्रमाणीकरण केंद्र, वैमानिकी विकास प्रतिष्ठान और हवाई डिलीवरी अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान ने इस परीक्षण में अहम योगदान दिया। अंतरिक्ष विभाग के सचिव और इसरो के अध्यक्ष एस सोमनाथ उन लोगों में शामिल थे, जो इस परीक्षण के गवाह बने।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

शासकीय जमीन पर कब्जा व अतिक्रमण होने पर तत्काल करें कार्रवाई- डॉ गौरव सिंह कलेक्टर     |     TODAY :: राशिफल मंगलवार 16 जुलाई 2024     |     सी एम एच ओ के निर्देश पर डेढ़ दर्जन क्लिनिक्स की हुई जांच,जांच रिपोर्ट के आधार पर की जा रही वैधानिक कार्यवाही     |     नगर पालिका के तत्वाधान में सुंदरवन में किया पौधा रोपण अभियान का शुभारंभ     |     केन्द्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास मंत्री शिवराजसिंह चौहान की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में बैठक सम्पन्न     |     आभार सभा को संबोधित करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा-जान भले ही चली जाए आपके विश्वास को टूटने नहीं दूंगा     |     ग्रामीण उपभोक्ता बिजली की अघोषित कटौती से परेशान     |     सुदाम खाड़े ने जनसंपर्क संचालनालय में आयुक्त जनसंपर्क का पदभार ग्रहण किया     |     माता कंकाली धाम पर 500 पेड़ों का सघन वृक्षारोपण एसडीएम तहसीलदार पटवारी ने लगाए पौधे     |     रात में स्तूप रोड पूरी तरह अंधेरे में,दिन में जलती हे लाइट     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811