Let’s travel together.

अपने उद्देश्य को इस तरह से पूरा करें कि विक्रम विश्वविद्यालय के छात्र के नाम से पहचाने जाये -राज्यपाल श्री पटेल

0 413

जीवन में बहुत उन्नति करें, प्रगति करें, अपने माता, पिता एवं मातृभूमि को सदैव याद रखे-राज्यपाल श्री पटेल

हेमेंद्रनाथ तिवारी उज्जैन

विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के 26 वे दीक्षान्त समारोह की अध्यक्षता कर रहे राज्यपाल एवं कुलाधिपति मंगुभाई पटेल ने दीक्षान्त समारोह में दीक्षार्थियों को सम्बोधित करते हुए कहा दीक्षान्त समारोह नववर्ष विक्रम संवत की शुरूआत के दिन सम्पन्न हुआ है। यह बहुत ही गौरव का विषय है। इस अवसर पर सभी को नववर्ष की शुभकामनाएं देते हुए राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि महान सम्राट विक्रमादित्य के नाम से संचालित इस विश्वविद्यालय से शिक्षा एवं दीक्षा प्राप्त कर आप सभी अपने जीवन में बहुत उन्नति करें, प्रगति करें, पर अपने माता, पिता एवं मातृभूमि को सदैव याद रखें। आपने यहां आज जो प्रतिज्ञा एवं संकल्प लिये हैं, उन्हें हमेशा अपने जीवन में याद रखें और अमल में लायें।
राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि यहां के शिक्षक इतने योग्य एवं विद्वान हैं कि विश्वविद्यालय निरन्तर शिक्षा एवं नवीन तकनीक को आगे बढ़ाने के क्षेत्र में निरन्तर अग्रसर होता रहेगा। आप जिस समाज में रहें, वहां हमेशा वंचित लोगों को अपने सामर्थ्य के अनुसार सदैव सहयोग करें। वंचित लोगों के बच्चों को शिक्षा के क्षेत्र में हरसंभव मदद करें। शिक्षा ही ऐसा मार्ग है, जिससे हर लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। शिक्षा ही समाज के सम्पूर्ण विकास में महत्वपूर्ण योगदान देती है। हमारे ऋषि-मुनियों ने भी शिक्षा को महत्वपूर्ण माना है। इतिहास में चाणक्य जैसे गुरू ने चंद्रगुप्त जैसे शिष्य को शिक्षा देकर महान सम्राट बनाया। विक्रम विश्वविद्यालय में भी ऐसे ही शिक्षक मौजूद हैं, जो विद्यार्थी को उन्नति के चरम तक पहुंचा सकते हैं। विक्रम विश्वविद्यालय का माहौल ऐसा बनाया जाये कि यहां का हर विद्यार्थी हर चुनौती का सामना करते हुए विकास के पथ पर आगे बढ़े और विश्वविद्यालय का नाम विश्व में हो। दीक्षान्त समारोह में आज जो युवा शिक्षित और संकल्पित हुए हैं मैं उनसे कहता हूं कि यह तो सिर्फ शुरूआत है, आगे आपको अपने जीवन में कई मंजिलें प्राप्त करनी है। आप अपने लक्ष्य निर्धारित करें और लक्ष्य के लिये सतत प्रयत्नशील रहें। सफलता जरूर मिलती है। समाज में अपना चरित्र उत्तम रखें। अपनी प्रतिभा से ऐसी छाप छोड़ें, जिससे विक्रम विश्वविद्यालय का नाम हो। दीक्षान्त समारोह को सम्बोधित करते हुए राज्यपाल श्री पटेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शिक्षा एवं समाज के विकास के लिये किये जा रहे कार्यों के बारे में बताते हुए दीक्षार्थियों को उन्हें आगे बढ़ाने के लिये संकल्प लेने को कहा।


उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने कहा कि विक्रम विश्वविद्यालय को राज्यपाल एवं कुलाधिपति के मार्गदर्शन में नई ऊंचाईयां मिली हैं। इसके लिये मैं उनका आभार व्यक्त करता हूं। मैं चाहता हूं कि कुलाधिपति के मार्गदर्शन में इस विश्वविद्यालय से हर क्षेत्र में विद्यार्थी अपना विकास कर चहुंओर समाज में हर क्षेत्र में उन्नति का पथ प्रदर्शित करें। हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रारम्भ की गई नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति से देश का चतुर्दिक विकास एवं आवश्यकताओं की पूर्ति होगी। इस शिक्षा नीति में भारत की महान प्राचीन परम्परा तथा सांस्कृतिक आदर्शों, ध्येय तथा मूल्यों को आदर्श बनाया गया है। प्रत्येक व्यक्ति में सृजनात्क क्षमताओं का सर्वांगीण विकास इस नीति के माध्यम से होगा।


सांसद अनिल फिरोजिया ने दीक्षार्थियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि यह दीक्षान्त प्रमाण-पत्र प्राप्त करना आपकी मंजिल नहीं है। अभी तो आपको कई लक्ष्य और मंजिलें प्राप्त करनी हैं। आपके कुलपति द्वारा दिलाये गये संकल्पों को अमल में लाते हुए समाज में अपनी भूमिका का निर्वहन करें। उन्होंने सभी को आगामी भविष्य के लिये शुभकामनाएं दी।
दीक्षान्त समारोह में उपस्थित नोबल शान्ति पुरस्कार प्राप्त समाजसेवक कैलाश सत्यार्थी ने कहा कि आज सभी शोधार्थियों के लिये विशेष दिन है। इस विशेष दिन के अवसर पर आपको नये संकल्पों, नये सपनों के लिये शपथ दिलाई गई है। यह आज का दिन आपके संकल्पों और सपनों का उत्सव है। इस समारोह में आपको सदाचरण की शपथ दिलाई गई है, उसे हमेशा याद रखें और सदाचरण करते हुए समाज में रहें। आपके माता, पिता, गुरूओं एवं राष्ट्र के प्रति कृतज्ञता के लिये भी आपने संकल्प लिया है। उन्हें आप हमेशा याद रखें। आपके जीवन के अब तक के विकास में जिन-जिन व्यक्तियों, माता, पिता, गुरू, भाई, बहन, जिनका भी सहयोग रहा है, उनके लिये हमेशा कृतज्ञ रहें। इस दीक्षान्त समारोह से जाने के बाद अपने ज्ञान और ऊर्जा का उपयोग राष्ट्र के निर्माण में करें। यहां के छात्र इस तरह से अपनी ऊर्जा का उपयोग करें कि भारत विश्वगुरू के रूप में पहचाना जाये, फिर से सोने की चिड़िया कहलाये।


समारोह के प्रारम्भ में विद्यार्थियों ने मालवांचल के पारम्परिक नृत्य द्वारा राज्यपाल मंगुभाई पटेल एवं अतिथियों की अगवानी की। अतिथियों ने विश्वविद्यालय परिसर में महाराजा विक्रमादित्य के मूर्तिशिल्प पर पुष्प अर्पित किये। कार्यवाही कुल सचिव डॉ.पुराणिक द्वारा कुलाधिपति की अनुमति से प्रारम्भ की गई। कुलपति प्रो.पाण्डेय ने सभी का शाब्दिक स्वागत किया। विश्वविद्यालय के कार्य परिषद के सदस्यों ने राज्यपाल श्री पटेल एवं सभी अतिथियों का पुष्पगुच्छ, तुलसी का पौधा, शाल, प्रतीक चिन्ह भेंटकर स्वागत किया। तत्पश्चात विश्वविद्यालय से सभी संकाय के गोल्ड मेडल, डीलिट, पीएचडी की उपाधि प्राप्त शोधार्थियों को अतिथियों द्वारा मंच से उपाधि एवं मेडल प्रदान किये गये। आभार प्रदर्शन कुल सचिव डॉ.प्रशांत पुराणिक ने किया।
दीक्षान्त समारोह में विधायक पारस जैन, विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.अखिलेश कुमार पाण्डेय, कुल सचिव डॉ.प्रशांत पुराणिक, कार्य परिषद के सदस्यगण, विद्या परिषद के सदस्यगण, दीक्षार्थी, विद्यार्थी सहित गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

इस बार हनुमान जन्मोत्सव पर वन रहा अद्भुत संयोग, कई वर्षों बाद मंगलवार को पड़ेगी जयंती     |     TODAY :: राशिफल मंगलवार 23 अप्रेल 2024     |     विदिशा संसदीय क्षेत्र में 13 अभ्यर्थी चुनाव मैदान में नाम वापसी के अंतिम तीन अभ्यर्थियों ने वापस लिया नाम निर्देशन पत्र     |     हनुमान जयंती पर विशेष:: घोड़े पर सवार होकर आए थे धरसीवा में चमत्कारिक हनुमानजी     |     मतदान के लिए जागरूकता शिविर आयोजित     |     विश्व पर्यटन स्थली साँची में प्याऊ उगल रही गर्म पानी पर्यटक एवं राहगीर परेशान     |     एस एस टी चैक पाइंट पर जप्त किए लगभग साढे चार लाख रुपए एवं कूपन     |     भाजपा प्रत्याशी श्री शिवराज सिंह चौहान 23 अप्रेल को करेंगे रोड शो     |     आबकारी अमले ने गुड लहन से भर सात ड्रम देशी शराब को किया नष्ट,दो आरोपी मौके से गिरफ्तार ,एक अज्ञात के खिलाफ प्रकरण दर्ज     |     अनिकेत ठाकुर की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के एक माह बाद भी नही पकड़े गये हत्यारे,परिजनों ने DFO को दिया ज्ञापन     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811