Let’s travel together.

जीवन की सार्थकता दूसरों के लिए जीने में: राज्यपाल श्री पटेल

0 467

पिछड़े वंचित वर्ग का विकास, समाज के सक्षम और समर्थ वर्ग की जिम्मेदारी
राज्यपाल राज्य स्तरीय तकनीकी खेल और सांस्कृतिक समापन समारोह में हुए शामिल

भोपाल।राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा है कि जीवन की सार्थकता दूसरों के लिए जीने में है। उन्होंने कहा कि प्रकृति ने मानव को वाणी और बुद्धि की असीम शक्ति इसलिये दी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा सबके विश्वास, सबके साथ और सबके प्रयासों से समावेशी विकास का कार्य किया जा रहा है। उनके प्रयासों की सफलता के लिए देश के निर्माण में हर व्यक्ति का योगदान आवश्यक है। किसी एक समूह अथवा वर्ग की प्रगति से राष्ट्र का विकास नहीं होता है। इसलिए जो सक्षम और समर्थ हैं, उनका दायित्व है कि वह गरीब, पिछड़े और वंचित वर्गों के विकास की जिम्मेदारी ग्रहण करें।

राज्यपाल श्री पटेल आज एन.आर.आई. शिक्षा संस्थान में तीन दिवसीय राज्य स्तरीय तकनीकी, खेल और सांस्कृतिक समारोह नोविजियो 2022 के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। श्री पटेल ने कार्यक्रम में 10 प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं को पुरस्कृत भी किया।

राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने विद्यार्थियों से कहा कि वह भावी जीवन की सफलताओं के साथ अपने कर्त्तव्यों के प्रति भी सजग रहें। शिक्षित होना पर्याप्त नहीं है, सुशिक्षित आचरण ज़रूरी है। भावी जीवन के उतार-चढ़ाव का सामना आत्म-विश्वास के साथ करें। अनुभवों से सीख लेते हुए आगे बढ़ें, अपनी सोच को सदैव उदार और विशाल रखें। उत्कृष्टता कौशल में नहीं दृष्टिकोण में होती है। संकल्प, समर्पण, सत्यनिष्ठा और सकारात्मकता के साथ कार्य करने पर कोई भी लक्ष्य असाध्य नहीं होता है। राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि माता पिता और मातृ भूमि की सेवा में ही जीवन की सार्थकता है। यह प्रत्येक व्यक्ति का दायित्व है कि उसके कार्यों से इनके मान-सम्मान पर कोई आँच नहीं आए। उन्होंने दक्षिणी गुजरात क्षेत्र के अप्रवासी भारतीयों का उदाहरण देते हुए बताया कि क्षेत्र के लोग बहुत बड़ी संख्या में विदेशों में रह रहे हैं। वर्षों से विदेश में रहते हुए भी वे निरंतर अपने क्षेत्र के विकास और सेवा कार्यों में सहभागिता कर रहे हैं।

संस्थान के अध्यक्ष श्री डी. सुबोध सिंह ने संस्थान की स्थापना, उसकी उपलब्धियों, अकादमिक नवाचारों और सामाजिक सरोकारों के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि संस्थान के पूर्व एवं अध्ययनरत छात्र-छात्राओं में बांग्लादेश, यू.ए.ई, नाइजीरिया और नेपाल के करीब 240 विद्यार्थी शामिल है। समारोह की संयोजक सुश्री अलका अवस्थी ने बताया कि वर्ष 2001 से संस्थान द्वारा तकनीकी, खेल और सांस्कृतिक गतिविधियों का तीन दिवसीय राज्य स्तरीय आयोजन किया जा रहा है। इस वर्ष के नोविजियो 2022 में प्रदेश के विभिन्न महाविद्यालयों के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। राज्यपाल श्री पटेल का संस्था की ओर से शाल-श्रीफल, स्मृति-चिन्ह भेंट कर अभिनंदन किया गया। राज्यपाल श्री पटेल ने दीप जलाकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। कार्यक्रम में राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. श्री सुनील कुमार, तारामती एजुकेशन सोसाइटी की सचिव श्रीमती जयश्री सिंह, सदस्य श्री आर. एस. गौतम और बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएँ उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

यूपी की इन 31 सीटों पर टिकी दिल्ली की सत्ता, उलटफेर हुआ तो बिगड़ जाएगा BJP का खेल?     |     12 साल की उम्र में रेप, 13 की उम्र में बनी बिन ब्याही मां… बेटे ने दिलाया 30 साल बाद इंसाफ     |     घर की छतें उड़ीं, दुकान के शटर उखड़े, दीवारों में आई दरार… बॉयलर ब्लास्ट से दहल उठा डोंबिवली     |     कलकत्ता HC ने रद्द किए 5 लाख OBC सर्टिफिकेट… क्या है बंगाल में ओबीसी आरक्षण का गणित, क्या लोगों की नौकरियां जाएंगी?     |     धौलपुर: जिस 3 साल की बच्ची से राखी बंधवाई, उसी से किया रेप… फिर मारकर चंबल में फेंका     |     चौड़ीकरण की जद में आए 18 धार्मिक स्थल, बुलडोजर लेकर हटाने पहुंची पुलिस… धरने पर बैठ गईं महिलाएं     |     बंगाल में साइक्लोन ‘रेमल’ मचा सकता है बड़ी तबाही, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट     |     कानपुर: 7 महीने पुराना हिट एंड रन केस, 2 बच्चों की हुई थी मौत…. पुणे रोडरेज के बाद जागी पुलिस ने आरोपी को पकड़ा     |     छत्तीसगढ़: सुरक्षाबलों का एक्शन जारी, दंतेवाड़ा में एनकाउंटर में मार गिराए 7 नक्सली     |     लोकसभा की पिच पर विधानसभा की तैयारी, क्या है लालू की जातीय गोलबंदी का गणित?     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811