Let’s travel together.

इंदौर में रंगू पहलवान के लोटे से निकली विश्वप्रसिद्ध गेर, देश विदेश से देखने आते हैं लोग

0 418

इंदौर । दो साल बाद आज फिर इंदौर में रंगपंचमी पर गेर निकलेगी. रंग पंचमी का उत्सव देश ही नहीं विदेशों में भी प्रसिद्ध है. दो साल पहले गेर को यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज की लिस्ट में जगह दिलाने की कोशिश हुई थी. इस साल फिर यही कोशिश है, जिसके चलते प्रदेश में इसे लेकर खासा उत्साह देखा जा रहा है. यूनेस्को की वर्ल्ड हेरिटेज सूची में शामिल होने के लिए तीन शर्तें पूरी करना जरूरी है. जैस कई पीढ़ी से चली आ रही परंपरा हो और उसका ग्लोबल कनेक्ट हो. विश्वप्रसिद्ध गेर की शुरूआत कैसे हुई और क्या महत्व है
रंगू पहलवान के लोटे से निकली गेर: रंग पंचमी से जुड़े कई किस्से सुनने में आते हैं. शहर के प्रसिद्ध कवि सत्यनारायण सत्तन ने बताया कैसे गेर की शुरूआत हुई. उन्होंने बताया पश्चिम क्षेत्र में गेर 1955-56 से निकलना शुरु हुई थी, लेकिन इससे पहले शहर के मल्हारगंज क्षेत्र में कुछ लोग खड़े हनुमान के मंदिर में फगुआ गाते थे एक दूसरे को रंग और गुलाल लगात थे. 1955 में इसी क्षेत्र में रहने वाले रंगू पहलवान एक बड़े से लोटे में केशरिया रंग घोलकर आने-जाने वाले लोगों पर रंग मारते थे. यहां से रंग पंचमी पर गेर खलने का चलन शुरू हुआ. रंगू पहलवान अपनी दुकान के ओटले पर बैठेक करते थे. वहां इस तरह गेर खेलने सार्वजनिक और भव्य पैमाने पर कैसे मनाएं चर्चा हुई. तब तय हुआ कि इलाके की टोरी कार्नर वाले चौराहे पर रंग घोलकर एक दूसरे पर डालेंगे और कहते हैं वहां से इसने भव्य रूप ले लिया.
एक इतिहास ये भी?: कहा जाता है गेर निकालने की परंपरा होलकर वंश के समय से ही चली आ रही है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक होलकर राजघराने के लोग पंचमी के दिन बैलगाड़ियों में फूलों और रंग-गुलाल लेकर सड़क पर निकल पड़ते थे. रास्ते में उन्हें जो भी मिलता, उन्हें रंग लगा देते. इस परंपरा का उद्देश्य समाज के सभी वर्गों को साथ मिलकर त्योहार मनाना था. यही परंपरा साल दर साल आगे बढ़ती रही. कोरोना के कारण 2020 और 2021 में आयोजन पर रोक लग गई थी. इस साल फिर वही जोश से पंचमी मनाई जा रही है.
क्यूं है प्रसिद्ध 300 साल से चली आ रही परंपरा
100 साल पहले सामाजिक रूप से मनाने की हुई शुरुआत
शहरभर में 3000 से ज्यादा पांडाल लगते हैं
1.5 करोड़ से ज्यादा लोग होते हैं शामिल
इंदौर की गेर विश्वभर में प्रसिद्ध विरासत
सभी जाति-धर्म के लोग शामिल होते हैं
देश के कोने-कोने से आते हैं पर्यटक

Leave A Reply

Your email address will not be published.

इस बार हनुमान जन्मोत्सव पर वन रहा अद्भुत संयोग, कई वर्षों बाद मंगलवार को पड़ेगी जयंती     |     TODAY :: राशिफल मंगलवार 23 अप्रेल 2024     |     विदिशा संसदीय क्षेत्र में 13 अभ्यर्थी चुनाव मैदान में नाम वापसी के अंतिम तीन अभ्यर्थियों ने वापस लिया नाम निर्देशन पत्र     |     हनुमान जयंती पर विशेष:: घोड़े पर सवार होकर आए थे धरसीवा में चमत्कारिक हनुमानजी     |     मतदान के लिए जागरूकता शिविर आयोजित     |     विश्व पर्यटन स्थली साँची में प्याऊ उगल रही गर्म पानी पर्यटक एवं राहगीर परेशान     |     एस एस टी चैक पाइंट पर जप्त किए लगभग साढे चार लाख रुपए एवं कूपन     |     भाजपा प्रत्याशी श्री शिवराज सिंह चौहान 23 अप्रेल को करेंगे रोड शो     |     आबकारी अमले ने गुड लहन से भर सात ड्रम देशी शराब को किया नष्ट,दो आरोपी मौके से गिरफ्तार ,एक अज्ञात के खिलाफ प्रकरण दर्ज     |     अनिकेत ठाकुर की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के एक माह बाद भी नही पकड़े गये हत्यारे,परिजनों ने DFO को दिया ज्ञापन     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811