Let’s travel together.

श्री महाकालेश्वर मंदिर में संध्या आरती पश्चात होलिका का दहन हुआ संपन्‍न  

0 439

उज्जैन से हेमेन्द्रनाथ तिवारी

श्री महाकालेश्‍वर मंदिर में होली का पर्व बडे ही हर्षोल्‍लास के साथ मनाया जाता है। ऐसी मान्‍यता है कि, होलिका अज्ञान व अहंकार को निरूपित करती है, इसलिए अपने जीवन को प्रगति की ओर ले जाना कर्मयज्ञ है और होलिका की अग्नि में इस कर्मयज्ञ को सात्विकता की ओर मोडने व प्रहलाद के प्रति उनके द्वेश का परिणाम दहन होना है। जैसे अग्नि समापन का प्रतीक है वैसे ही अगले दिन खेला जने वाला रंगोत्‍सव सृजन का प्रतीक है।


श्री महाकालेश्वर मंदिर में आज 17 मार्च को संध्या आरती में भगवान श्री महाकालेश्‍वर को गुलाल अर्पित किया गया। साथ ही पुजारी/पुरोहित एवं भक्तों ने नंदी मंडपम एवं गणपति मण्डपम में भी हर्बल गुलाल एवं फूलों से होली खेली गयी। भगवान श्री महाकालेश्‍वर की संध्या आरती के बाद श्री महाकालेश्वर मंदिर परिसर में ओंकारेश्वर मंदिर के सामने शासकीय पुजारी घनश्याम शर्मा ने कण्ड़ों व लकडी से निर्मित होलिका का विधिवत पूजन कर दहन किया।इस अवसर पर ए.डी.एम.संतोष टैगोर, महाकालेश्‍वर मंदिर प्रबंध समिति के प्रशासक गणेश कुमार धाकड, महंत विनीत गिरी जी महाराज, सहायक प्रशासक पूर्णिमा सिंगी, मूलचंद जूनवाल, प्रतीक द्विवेदी, सहायक प्रशासनिक अधिकारी आर.के.तिवारी,आर.पी. गहलोत आदि उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

राजेश बादल की नई किताब::“यह अंतिम था, जिसे पोर्टल प्रकाशित करने का साहस नहीं दिखा सका और मैंने यह कॉलम बंद कर दिया।“     |     क्षेत्र मे दहशत फैलाने वाले कुख्यात शराब तस्कर व आदतन आरोपी  NSA में गिरफ्तार कर केन्द्रीय जेल भोपाल भेजा गया     |     कुंडलपुर में आचार्य पदारोहण न भूतों न भविष्यति,एक नहीं दो दो मोहन बने साक्षी     |     सात दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा का समापन     |     प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में दिल्ली की तीन सदस्य टीम का निरीक्षण     |     सप्त दिवसीय हनुमत शिव पंचायत, प्राण प्रतिष्ठा एवं राम कथा प्रवचन का आयोजन,कलश यात्रा निकली     |     नवरात्र के आखिरी दिन मंदिरों में भक्तों की रही भीड़     |     सवारी ऑटो को एसडीएम के जीप चालक ने मारी टक्कर, एक की मौत,चैत्र दुर्गा माता की अष्टमी पर पूजन करने रायसेन आया था आदिवासी परिवार     |     श्रीरामनवमी पर शहर में निकली जवारो की शोभा यात्रा, मिश्रा तालाब पर किया गया विसर्जन     |     दैवियां हमारे जीवन में नौ दिन के लिए नहीं बल्कि सदा के लिए परिवर्तन चाहती हैं- ब्रह्माकुमारी रुक्मिणी दीदी     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811