Let’s travel together.

पर्यटकों की उमड़ने लगी भीड़ सुविधाओ की दरकार

0 254

पर्यटकों को भी उठाना पड़ रही परेशानी आवारा पशुओं पर भी नहीं लग सकी लगाम

देवेंद्र तिवारी साँची रायसेन

सांची आने जाने वाले पर्यटकों नागरिकों को सुविधा उपलब्ध कराने बड़ी बड़ी बाते करते दिखाई देते हैं परन्तु धरातल लोगों को मिलने वाली सुविधाओं से काफी दूर दिखाई देते हैं जिसका खामियाजा यहां आने वाले पर्यटकों को भी उठाना पड़ता है । जानकारी के अनुसार नगर एक विश्व विख्यात पर्यटक स्थल के रूप में विख्यात है यहां न केवल देशी पर्यटक आते हैं बल्कि यहां बड़ी संख्या में विदेशी पर्यटकों का भी आना जाना लगा रहता है वैसे भी आज रविवार के दिन अवकाश होने पर लोगों का यहां हुजूम लगने लगता है इस ऐतिहासिक स्थली पर प्रशासन सुविधाएं उपलब्ध कराने की बड़ी बड़ी धींगे भरता तो दिखाई देता है परन्तु यह धींगे तब निराधार हो जाती है जब यहां आने वाले लोगों को सुविधा के लिए यहां वहां भटकना पड़ता है न तो नागरिकों न ही पर्यटकों की सुध लेने वाला कोई दिखाई देता है।
प्रमुख चौराहों पर लगता है आवारा पशुओं का जमावड़ा।
वैसे तो आवारा पशु नागरिकों का तो सरदर्द बने ही रहते हैं साथ ही वाहन चालकों के लिए भी बडी मुसीबत खड़ी कर रहे हैं । स्थानीय प्रशासन कभी कभी इन्हें सड़कों से तो हटा देता है परन्तु इनका स्थाई समाधान खोजने में विफल साबित हो जाता है हालांकि सड़कों पर बैठने फिरने वाले आवारा पशुओं को लेकर जिला कलेक्टर तक ने आदेश जारी कर दिए परन्तु वह आदेश भी मात्र कागजी आदेश बनकर रह गए । उल्लेखनीय है कि नगर से गुजरे राष्ट्रीय राजमार्ग पर बेलगाम गति से छोटे बड़े वाहनों की भागदौड़ लगी रहती है जिससे अनेक पशुओं को तो वाहनों की चपेट में आकर अपनी जिंदगी भी गंवानी पड़ती है तथा दो दो दिन मरे पशुओं को पड़े देखा जाता है यह आवारा पशु न केवल वाहनों की ही परेशानी बनते हैं बल्कि नागरिकों का भी सरदर्द बने रहते हैं इसके साथ ही पर्यटकों को भी आपस में लडझगडकर भय पैदा करते दिखाई देते हैं । जिससे नगर की छवि धूमिल होती दिखाई देती है ।।
राष्ट्रीय राजमार्ग पर वाहनों की होती है तेजगति दुर्घटना का रहता अंदेशा।।
इस नगर से गुजरे राष्ट्रीय राजमार्ग भी लोगों की मुसीबत बन कर रह गया है यहां सुरक्षा के कोई इंतजाम दिखाई नहीं देते । तेजगति लोगों को सड़कों पर चलने व सड़कों को क्रास करने के लिए बड़ी मशक्कत करनी पड़ती है क्रास करते वक्त दोनों ओर से वाहनों की आवाजाही से लोगों को काफी देर तक सड़क पार करने इंतजार करना पड़ता है । फिर भी भय बना रहता है हालांकि इस नगर में व्यस्ततम चौराहों के रूप में प्रसिद्ध स्तूप चौराहा जिससे सैकड़ों नागरिकों के साथ ही सैकड़ों देशी विदेशी पर्यटकों का सड़क पार करने का सिलसिला जारी रहता है दूसरा गुलगांव चौराहा जहां से लगभग 35 गांवो के लोगों का आना जाना लगा रहता है सड़क पार करने लोगों को वाहन चालकों को स्वयं अपने हाथों के संकेत दिखाकर अपनी सुरक्षा करनी पड़ती है यही हाल हेडगेवार कालोनी का भी बना रहता है हालांकि कभी कभी तो लोगों को दुर्घटना का शिकार भी होना पड़ता है । नगर की प्रसिद्धि से बेखबर पुलिस विभाग ने यातायात व्यवस्था सुचारू बनाने मात्र एक ही यातायात आरक्षक को पदस्थ तो कर दिया परन्तु इस यातायात आरक्षक की कहां पदस्था रहती है किसी को नहीं पता पुलिस विभाग ने मात्र नाम के लिए पदस्थापना की गई दिखाई देता है । अन्य चौराहे भगवान भरोसे छोड़ दिए गए हैं ।
ट्रेनों के स्टापेज न होने से पर्यटकों को उठानी पड़ती है परेशानी।
वैसे तो यह नगर एक विश्व विख्यात पर्यटक स्थल के रूप में जाना जाता है परन्तु यहां सुविधाओं के अभाव के चलते पर्यटक भी परेशान होते रहते हैं पहले यहां ट्रेनों के स्टापेज हुआ करते थे परन्तु कोराना महामारी के चलते ट्रेनों के स्टापेज स्थगित कर दिए गए थे तब से अब तक स्टापेज स्थगित बने हुए हैं जबकि कोराना महामारी की विदाई हुए लगभग एक वर्ष का समय बीत चुका है परन्तु रेलवे को आज भी कोराना का भय बना हुआ है । जबकि यह नगर बौद्ध धर्मावलंबीयो का पवित्र तीर्थ स्थल माना जाता है यहां अनेक देशों सहित देशभर से बौद्ध धर्मावलंबी तीर्थ करने आते हैं जिससे यहां आने जाने के लिए उन्हें घंटों बसों की बाट जोहना पड़ती है जिससे उन्हें आर्थिक बोझ तो पड़ता ही है साथ ही भटकने का भय भी बना रहता है हालांकि इसके पूर्व ऐसी घटनाएं घट चुकी है । साथ ही नगर सहित अपडाउनर्सो को भी खासी परेशानी उठानी पड़ती है हालांकि ट्रेनों के स्टापेज को लेकर विभिन्न संगठनों ने अनेक बार ज्ञापन सौंपे परन्तु रेलवे प्रशासन का मात्र खोखला आश्वासन पाकर ही संतुष्ट रहना पड़ रहा है पर्यटकों को बसों के इंतजार में घंटों सड़क किनारे बैठ कर इंतज़ार करने पर मजबूर होना पड़ता है । इतनी प्रसिद्धि होने के बाद भी लोगों को सुविधाओं के लिए तरसना पड़ रहा है ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

ट्रैक्टर ट्रालियो का व्यवसायिक उपयोग,ट्रालियों पर रेडियम प्लेट न होने से दुर्घटना की आशंका     |     भारतीय ज्ञान परम्परा सबसे प्राचीन है जो विश्व मे आज भी प्रासंगिक है -डा.ए.डी.एन वाजपेयी     |     सेवा भारती द्वारा संस्कार केन्द्रों का शुभारंभ     |     TODAY :: राशिफल सोमवार 27 मई 2024     |     शिवपुरी खनन माफियाओं पर कार्रवाई, जेसीबी और डंपर जप्त, कई क्रेशर व प्लांट पर मिली खामियां     |     दुर्लभ जीवित प्राणी इगुआना एवं एंपरर स्कॉर्पियन देवास से जप्त     |     यातायात व्यवस्था सुगम बनाने निकला पुलिस आमला ,4 वाहन जब्त      |     नारद जयंती उत्सव ::सृष्टि के पहले पत्रकार माने जाते हैं देवर्षि नारद     |     पी एच ई दफ्तर में अवकाश के दिन सब इंजीनियर और उनके मातहत मना रहे दारु-मुर्गा पार्टी,वीडियो वायरल     |     स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा का एटीएम कई दिनों से बंद,उपभोक्ता परेशान     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811