Let’s travel together.

शनि दोष से मुक्ति के लिये मकर संक्रांति के दिन करें ये उपाय

0 450

- Advertisement -

मकर संक्रांति के दिन सूर्य उपासना का महत्व है। मकर संक्रांति के दिन सूर्य धनु राशि से निकल कर मकर राशि में प्रवेश करते हैं।
सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण होते हैं। पौराणिक मान्यताओं कि मानें तो मकर संक्रांति के दिन सूर्य अपने पुत्र शनि के घर जाते हैं। इसलिए मकर संक्रांति के दिन सूर्य देव की आराधना के साथ शनि देव की आराधना करने से भी शुभ फल की प्राप्ति होती है। मकर संक्रांति के दिन यदि आप शनि देव की पूजा पूरे विधि विधान से करें और उनसे संबंदित वस्तुएं दान करें तो आपको शनि दोष से मुक्ति मिलेगी। इस बार मकर संक्रांति का पर्व 14 जनवरी, शुक्रवार के दिन मनाया जाएगा। सूर्य 14 जनवरी को दोपहर 2: 28 मिनट पर मकर राशि में प्रवेश कर रहे हैं। मकर संक्रांति को लेकर कई श्रद्धालुओं के बीच ऊहापोह की स्थिति है। आमतौर पर मकर संक्राति 14 जनवरी को मनाई जाती है। हालांकि, इस बार मकर संक्रांति का पुण्यकाल 14 जनवरी दोपहर दो बजकर 28 मिनट से शुरू हो रहा है। ऐसे में उदयातिथि से मानने वाले श्रद्धालु 15 जनवरी को पर्व मनाएंगे।

शनि दोष मुक्ति के लिए करें ये उपाय

मकर संक्रांति को स्नान के बाद जल में काले तिल मिलाकर सूर्य देव को अर्पित करें।
उसके बाद शनि देव की पूजा करें।
पूजा में काले तिल अर्पित करें।
पूजा के बाद गरीब, जरूरतमंद लोगों को सरसों का तेल, काला तिल, तिल के लड्डू, गरम वस्त्र आदि दान करें।
ऐसा करने से शनि देव प्रसन्न होंगे और आपको आशीर्वाद प्रदान करेंगे।
मकर संक्रांति के दिन चावल और उड़द की दाल के दान का भी विशेष महत्व है।

एक माह के लिए सूर्य करते हैं पुत्र के घर निवास
सूर्य ग्रह के मकर सही में प्रवेश करने के कारण ही ये दिन मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाता है। साथ ही इसी दिन सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण होते हैं। मकर राशि के स्वामी ग्रह शनिदेव है और पौराणिक मान्यता के अनुसार शनिदेव को मकर सूर्यदेव ने ही उपहार स्वरूप दिया था। मान्यता है कि सूर्य देव अपने पुत्र शनि देव से उनके घर मकर संक्रांति के दिन मिलते हैं और वहां वे लगभग एक माह तक रहते हैं।

काले तिल से किया था भगवान सूर्य का स्वागत
शास्त्रों के अनुसार, जब सूर्य ग्रह पहली बार शनि देव से मिलने उनके घर गए थे तब उन्होंने अपने पिता का स्वागत काले तिल से किया था। सूर्यदेव उनकी आवभगत से प्रसन्न हुए थे। उन्होंने शनिदेव को आशीर्वाद दिया कि उनका घर सदा धन-धान्य से भरा रहेगा ।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

एक साल पहले नलजल योजना में पाईप लाइन बिछी,अभी तक नही आया नलो मे पानी     |     एक साल पहले स्वास्थ्य मंत्री ने किया था भूमिपूजन,अभी तक नही हुआ सड़क निर्माण शुरु     |     भारतीय रेडक्रास सोसायटी, विदिशा शाखा को अवार्ड से सम्मानित किया     |     छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश में किया अबकी बार चार सौ पार का नारा बुलंद     |     भेल कालेज वार्षिक स्नेह सम्मेलन:विहान 2024 का समापन     |     पश्चिम बंगाल में महिलाओं पर घटित हुए जघन्य अपराधों एवं अत्याचारों के विरोध में भाजपा द्वारा किया धरना प्रदर्शन एवं पुतला दहन     |     पश्चिम बंगाल में महिलाओं के ऊपर हो रहे घोर अपराध एवं अत्याचार के विरोध में भाजपा ने दिया धरना, जताया विरोध,सौंपा ज्ञापन     |     पश्चिम बंगाल में PM मोदी का ममता सरकार पर हमला, बोले- संदेशखाली में TMC नेता ने कीं हदें पार     |     भंडारी ब्रिज पर फायनेंस कंपनी के मैनेजर को टक्कर मारकर फुटपाथ पर जा चढ़ी कार     |     डिंडौरी में नहीं परिवहन विभाग का दफ्तर, वाहनों की जांच करने मंडला से आई आरटीओ की टीम     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811