Let’s travel together.

मुख्य द्वार पर शुभ-लाभ क्यों लिखा जाता है? जानें वजह

0 342

आपने अक्सर हिन्दू घरों के मुख्य द्वार पर शुभ-लाभ लिखा हुआ और स्वस्तिक का चिन्ह बना हुआ देखा होगा. घरों और मंदिरों में होने वाली पूजा में भी सबसे पहले स्वस्तिक का चिन्ह बनाया जाता है, और शुभ-लाभ लिखा जाता है. यह परम्परा कई सदियों से चली आ रही है. क्योंकि हिन्दू शास्त्रों में भगवान गणेश को प्रथम पूज्य माना जाता है और शुभ-लाभ को भगवान गणेश की संतान माना गया है.

हिन्दू धर्म शास्त्रों में कई ऐसी बातों का उल्लेख मिलता है जिनसे व्यक्ति तरक्की और शुभता को प्राप्त कर सकता है. उन्हीं में से एक है शुभ चिन्ह. शुभ चिन्ह मतलब शुभ-लाभ और स्वस्तिक. आपने अक्सर हिन्दू घरों के मुख्य द्वार पर शुभ-लाभ लिखा हुआ और स्वस्तिक का चिन्ह बना हुआ देखा होगा. घरों और मंदिरों में होने वाली पूजा में भी सबसे पहले स्वस्तिक का चिन्ह बनाया जाता है, और शुभ-लाभ लिखा जाता है. यह परम्परा कई सदियों से चली आ रही है. क्योंकि हिन्दू शास्त्रों में भगवान गणेश को प्रथम पूज्य माना जाता है और शुभ-लाभ को भगवान गणेश की संतान माना गया है.
हिन्दू धर्म में ऐसी मान्यता है कि घर के मुख्य द्वार पर यदि स्वस्तिक बना कर शुभ-लाभ लिखा जाए तो घर में सुख समृद्धि बनी रहती है, और भगवान गणेश अपनी कृपा बनाए रखते हैं. इसके अलावा घर में कभी धन-धान्य की कमी नहीं होती है. इसी के साथ घर के मुख्य द्वार पर स्वस्तिक के साथ शुभ-लाभ सकारात्मक ऊर्जा को अवशोषित करता है, और घर के आस-पास की नकारात्मक ऊर्जा को नष्ट भी करता है. इसलिए हिन्दू धर्म को मानने वाले घरों में पूजा-पाठ से पहले भगवान गणेश का पूजन कर घर के मुख्य द्वार पर स्वस्तिक के साथ शुभ-लाभ लिखा जाता है.

घर के मुख्य द्वार पर शुभ-लाभ लिखने से घर में शांति बनी रहती है और घर पर किसी की बुरी नज़र भी नहीं लगती. सिन्दूर या कुमकुम से शुभ-लाभ लिखने के पीछे अभिप्राय यह है कि सिन्दूर या कुमकुम महालक्ष्मी को चढ़ाया जाता है तो इससे शुभ-लाभ लिखने से महालक्ष्मी की कृपा भी प्राप्त होती है.

शुभ लिखने का अर्थ
शुभ-लाभ को शास्त्रों में भगवान गणेश के पुत्र माना गया है. तो इस प्रकार शुभ लिखने का अर्थ है कि हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि जिन साधनों से हमें धन और यश प्राप्त हुआ है वह स्त्रोत सदैव बना रहे.

लाभ लिखने का अर्थ
लाभ लिखने का अर्थ है कि भगवान से हम प्रार्थना करते हैं कि हमारे घर की आय अथवा धन हमेशा बढ़ता रहे. श्री गणेश की कृपा से हमारा व्यवसाय या आय प्राप्ति स्रोत सदैव बढ़ते रहें. इसके अलावा स्वस्तिक का चिन्ह श्री गणेश का प्रतीक चिन्ह माना जाता है. अत: महालक्ष्मी की कृपा प्राप्ति के लिए घर के बाहर शुभ-लाभ लिखें और स्वस्तिक का चिन्ह अवश्य बनाएं

Leave A Reply

Your email address will not be published.

24 घंटे में परमाणु हथियारों की पूरी दुनिया में बढ़ी हलचल, कई देश कर रहे तबाही का रिहर्सल     |     UP में पहले चरण की वोटिंग ने बढ़ाई बीजेपी की टेंशन, दूसरे राउंड के लिए बनाई ये रणनीति     |     अनिकेत ठाकुर की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के एक माह बाद भी नही पकड़े गये हत्यारे,परिजनों ने DFO को दिया ज्ञापन     |     इस बार हनुमान जन्मोत्सव पर वन रहा अद्भुत संयोग, कई वर्षों बाद मंगलवार को पड़ेगी जयंती     |     TODAY :: राशिफल मंगलवार 23 अप्रेल 2024     |     विदिशा संसदीय क्षेत्र में 13 अभ्यर्थी चुनाव मैदान में नाम वापसी के अंतिम तीन अभ्यर्थियों ने वापस लिया नाम निर्देशन पत्र     |     हनुमान जयंती पर विशेष:: घोड़े पर सवार होकर आए थे धरसीवा में चमत्कारिक हनुमानजी     |     मतदान के लिए जागरूकता शिविर आयोजित     |     विश्व पर्यटन स्थली साँची में प्याऊ उगल रही गर्म पानी पर्यटक एवं राहगीर परेशान     |     एस एस टी चैक पाइंट पर जप्त किए लगभग साढे चार लाख रुपए एवं कूपन     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811