Let’s travel together.

बसन्त पंचमी -प्रमाणिक कथा

0 471

सृष्टि के प्रारंभिक काल में भगवान विष्णु की आज्ञा से ब्रह्माजी ने मनुष्य योनि की रचना की, परंतु वह अपनी सर्जना से संतुष्ट नहीं थे।
तब ब्रह्मा जी ने
विष्णु जी से आज्ञा लेकर अपने कमंडल से जल को पृथ्वी पर छिड़क दिया, जिससे पृथ्वी पर कंपन होने लगा और एक अद्भुत शक्ति के रूप में चतुर्भुजी सुंदर स्त्री प्रकट हुई।

जिनके एक हाथ में वीणा एवं दूसरा हाथ वर मुद्रा में था। वहीं अन्य दोनों हाथों में पुस्तक एवं माला थी। जब इस देवी ने वीणा का मधुर नाद किया तो संसार के समस्त जीव-जंतुओं को वाणी प्राप्त हो गई, तब ब्रह्माजी ने उस देवी को वाणी की देवी सरस्वती कहा।

सरस्वती को वागीश्वरी, भगवती, शारदा, वीणावादनी और वाग्देवी सहित अनेक नामों से पूजा जाता है। संगीत की उत्पत्ति करने के कारण वह संगीत की देवी भी हैं।

वसंत पंचमी के दिन को माता सरस्वती के जन्मोत्सव के रूप में भी मनाते हैं।

पुराणों के अनुसार भगवान विष्णु ने श्रीकृष्ण अवतार के रूप में सरस्वती से खुश होकर उन्हें वरदान दिया था कि वसंत पंचमी के दिन तुम्हारी आराधना की जाएगी। इस कारण हिंदू धर्म में वसंत पंचमी के दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

ट्रैक्टर ट्रालियो का व्यवसायिक उपयोग,ट्रालियों पर रेडियम प्लेट न होने से दुर्घटना की आशंका     |     भारतीय ज्ञान परम्परा सबसे प्राचीन है जो विश्व मे आज भी प्रासंगिक है -डा.ए.डी.एन वाजपेयी     |     सेवा भारती द्वारा संस्कार केन्द्रों का शुभारंभ     |     TODAY :: राशिफल सोमवार 27 मई 2024     |     शिवपुरी खनन माफियाओं पर कार्रवाई, जेसीबी और डंपर जप्त, कई क्रेशर व प्लांट पर मिली खामियां     |     दुर्लभ जीवित प्राणी इगुआना एवं एंपरर स्कॉर्पियन देवास से जप्त     |     यातायात व्यवस्था सुगम बनाने निकला पुलिस आमला ,4 वाहन जब्त      |     नारद जयंती उत्सव ::सृष्टि के पहले पत्रकार माने जाते हैं देवर्षि नारद     |     पी एच ई दफ्तर में अवकाश के दिन सब इंजीनियर और उनके मातहत मना रहे दारु-मुर्गा पार्टी,वीडियो वायरल     |     स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा का एटीएम कई दिनों से बंद,उपभोक्ता परेशान     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811