Let’s travel together.

पितृपक्ष विशेष-मुक्तिधाम का काग उद्यान जहां विलुप्त होती कौवों की प्रजाति के संरक्षण का अनूठा अभियान

0 106

-यहां प्रतिदिन उनके भोजन आहार की की जाती है व्यवस्था

विदिशा। आज से पितृपक्ष प्रारंभ हो चुका है जहां लोग बाग अपने-अपने पितरों की याद में धर्म-कर्म दान पुण्य का विशेष रूप से कार्य करते हैं। ऐसा माना जाता है कि इन 15 दिनों के पितृपक्ष काल में किए गए दान पुण्य और उनके सेवा कार्य सीधे उनके पितरों तक पहुंचते हैं और उन्हीं के आशीर्वाद से परिवार में सुख शांति और समृद्धि बनी रहती है। इसमें एक कार्य है पितरों के प्रतीक कौंवे को आहार कराने का,क्योंकि सनातनी धर्म में और परंपराओं में यह माना गया है कि कौवों को भोजन कराने से सीधे हमारे पितरों तक भोजन आहार पहुंचता है। इसके लिए मुक्ति धाम सेवा समिति द्वारा बेतवा तट स्थित एक काग उद्यान का निर्माण किया गया है जहां प्रतिदिन कौवों अथार्त कागों को प्रतिदिन भोजन कराया जाता है। गौरतलब है कि पितृ पक्ष काल में तो यहां मिष्ठान और मीठे चावल तैयार करने का भी कार्य किया जाता है।

मुक्ति धाम सेवा समिति के सचिव मनोज पांडे बताते हैं कि देश का पहला ऐसा उद्यान है जहां विलुप्त होती कोंवो की प्रजाति को बचाने एवं उनके संरक्षण का कार्य किया जाता है बल्कि प्रतिदिन उनके लिए भोजन भी तैयार किया जाता है। श्री पांडे के मुताबिक कागों के निमित्त एक काग रसोई ही जहां तैयार कर दी गई है जहां प्रतिदिन चावल और समय-समय पर रोटी आदि पकाई जाती है। संस्था सचिव मनोज पांडे बताते हैं कि पिछले 11 वर्षों से इस विलुप्त होती प्रजाति को बचाने का ख्याल मन में आया था और तब से लेकर आज तक प्रतिदिन यहां कौंवै के नाम पर ही काग रसोई चल रही है। वहीं शहर की होटलों से समोसे कचोरी भाजी बड़ा आलू बड़ा और जलेबियां भी प्रतिदिन उठाई जाती हैं और यहां कागों और पक्षियों को खिलाई जाती हैं। श्री पांडे के मुताबिक देश दुनिया में पक्षी विहार तो बहुत हैं लेकिन कौंवै के संरक्षण के लिए यह अनूठा प्रयोग यहां शुरू किया गया है और अब यहां सैकड़ों की तादाद में कौवा की मौजूदगी बनी रहती है। अब यहीं से यह शहरों की ओर भी समय-समय पर कूच करते रहते हैं। जिसके कारण अब शहर में लोगों के घरों पर छतों पर भी कौवो की मौजूदगी को देखा जा सकता है। मुक्तिधाम सेवा समिति के सचिव मनोज पांडे के मुताबिक विलुप्त होती इस प्रजाति को ना केवल बचाने का कार्य  किया जाता है बल्कि धार्मिक एवं वैज्ञानिक रूप से भी कौवों का संरक्षण आवश्यक है। जहां धार्मिक रूप से यह हमारे पितरों के प्रतीक के रूप में स्थान प्राप्त है। कहा जाता है पित्र पक्ष में किया गया कौवों का आहार सीधे हमारे पितरों तक पहुंचता है,तो  दूसरी ओर वैज्ञानिक दृष्टि से भी इनका का बड़ा महत्व है कौवे कीट भक्षी होते हैं और मानव शरीर को नुकसान पहुंचाने वाले कीटों का यह भक्षण करते हैं। जो कीट हमारे मानव शरीर को नुकसान पहुंचाने का कार्य करते हैं। वर्तमान समय में मोबाइल टावरों की बढ़ते रेडिएशन के कारण इनके जीवन और अस्तित्व पर प्रश्नचिन्ह खड़ा हो गया है और इसी वजह से यहां बड़ी संख्या में इस प्रजाति को बचाने के लिए प्रतिदिन उनके लिए सेवा कार्य किया जाता है।श्री पांडे के मुताबिक शहर के अनेकों दान दाता यहां खाद्य सामग्री भी हमें उपलब्ध कराते हैं जिसको हम यही  पकाते हैं और प्रतिदिन कागों को आहार कराते हैं। मुक्तिधाम के काग उद्यान में बाकायदा स्टील के भोजन के थाल भी पूरे उद्यान में बने हुए हैं जिसमें प्रतिदिन आहार डाला जाता है और  पितृपक्ष के दौरान शहर से भी लोग भी वहां पहुंच कर पितरों के प्रतीक कागों को आहार कराते हैं।

इस काग उद्यान का लोकार्पण अंतर्राष्ट्रीय रमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित देश के जाने-माने जल विद डॉक्टर राजेंद्र सिंह के द्वारा किया गया था। वही भोपाल कमिश्नर भोपाल कमिश्नर ने अपने ट्विटर अकाउंट पर 19 सितंबर 2021 को 11:28 पर खुद लिखा है कि विदिशा मुक्तिधाम सेवा समिति की पहल काग उद्यान जहां कौवों के संरक्षण के लिए अनूठा प्रयास है जहां उनकी खासतौर से देखभाल हो रही है। भोपाल कमिश्नर आगे लिखते हैं किताबों के संरक्षण के लिए मुक्ति धाम सेवा समिति की तरफ से एक अनूठी पहल(Unique Campaingh ) की गई है।

न्यूज सोर्स-मनोज पांडे सचिव मुक्ति धाम सेवा समिति विदिशा

Leave A Reply

Your email address will not be published.

भीषण गर्मी में प्यास बुझाने कुएं पर गए युवक का पैर फिसला,कुएं में गिरने से हुई दर्दनाक मौत     |     खाद नहीं मिलने से परेशान किसानों ने एसडीएम के दरबार में लगाई गुहार     |     छत्तीसगढ़ को विकसित बनाने के लिए विभिन्न विभाग बनाएं कार्ययोजना – डॉ गौरव सिंह     |     कलेक्टर गौरव सिंह की सदाशयता,अख्तर हुसैन के उपचारार्थ दी आर्थिक सहायता     |     चुप्पी का फैलना कम ख़तरनाक़ नहीं होता- राजेश बादल     |     21 जून को हर साल दोपहर के 12 बजे परछाई भी साथ छोड़ देती है,कर्क रेखा पॉइंड बना सेल्फी पॉइंट.     |     पीएम श्री शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय दीवानगंज में योग कार्यक्रम आयोजित     |     हार थाली में मिलेट्स हों शामिल- उप मुख्यमंत्री श्री शुक्ल     |     पर्यावरण के बीच आंतरिक शांति के लिये हुए इकट्ठा, योग के महत्व को समझा     |     TODAY :: राशिफल शनिवार 22 जून 2024     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811