Let’s travel together.

राजेश बादल की नई किताब::“यह अंतिम था, जिसे पोर्टल प्रकाशित करने का साहस नहीं दिखा सका और मैंने यह कॉलम बंद कर दिया।“

0 151

आलेख

पंकज चतुर्वेदी

अड़तालीस साल से पत्रकारिता के प्रत्येक माध्यम- प्रिन्ट, रेडियों, टीवी,डिजिटल में शीर्ष स्तर पर भूमिका निभाते हुए शब्द-संस्कार के अमिट निशान छोड़ने वाले राजेश बादल ने जब ये पंक्तियाँ लिखीं, तब भारत में पत्रकारिता बेहद विषम दौर से गुजर रही थी । असहमतियों के चलते बड़ी संख्या में पत्रकारों को अखबारों और टीवी से निकाला जा रहा था । कह सकते हैं कि सच को दबाने की भरकस कोशिशें हो रही थी । श्री बादल उन दिनों एक चर्चित न्यूज पोर्टल के लिए “मिस्टर मीडिया” शीर्षक से साप्ताहिक स्तम्भ लिखते थे। मीडिया की दिशा और दशा पर । यह संभवतया सबसे लंबे समय तक चलने वाला स्तंभ था , जिसमें उस कालखंड की उन घटनाओं का भी दस्तावेज़ीकरण था, जिन्होंने तत्कालीन पत्रकारिता को प्रभावित किया ।
यह पुस्तक उन सभी 178 लेखों का संकलन है जो भारत में पत्रकारिता के बदलते मानदंड और विश्वास से अविश्वास के अँधियारे में जाने के साक्षी हैं । “मिस्टर मीडिया” पत्रकारिता से जुड़े प्रत्येक संस्थान , प्रेस की स्वतंत्रता के समर्थक आम लोगों के साथ –साथ , स्थापित पत्रकारों के लिए भी उतनी ही अहम है जितनी कि पत्रकारिता में अपना भविष्य बनाने वाले छात्रों के लिए ।
राजेश बादल ( छतरपुर, मध्यप्रदेश) चार दशकों से पत्रकारिता में चर्चित नाम हैं। जनसत्ता, नईदुनिया,संडे आब्जर्वर एवं नवभारत टाईम्स के बाद टीवी की दुनिया में परख,दूरदर्शन के लोकप्रिय न्यूज़ एंकर,आज तक के साथ दस बरस तक संपादक बनने का सफर , सी एन ई बी, वायस ऑफ़ इंडिया,इंडिया न्यूज, बी ए जी फिल्म्स ( आज का न्यूज़ 24 ) चैनल से जुड़े रहे। संसद के “राज्यसभा टी वी” के संस्थापक कार्यकारी निदेशक रहते हुए इनके कार्यक्रमों और बायोपिक फ़िल्मों ने सरकारी मीडिया के प्रति लोगों का नजरिया बदल दिया था । रेडियो टीवी पत्रकारिता में सौ से ज़्यादा वृतचित्र, दस हज़ार से ज़्यादा टीवी रिपोर्ट्स, पाँच हज़ार से ज़्यादा आलेख, बीस से ज़्यादा विश्वविद्यालयों में अतिथि व्याख्यान देने वाले राजेश बादल गांधीवादी विचारों के विस्तार में कार्यरत हैं । अमेरिका के अनेक शहरों में व्याख्यान और हिंदी के लिए समर्पित। एक दर्जन से अधिक सम्मान । आपकी चर्चित पुस्तकें – हिंदुस्तान का सफ़र , शब्द सितारे, क्रांतिदूत पंडित परमानन्द ,सदी का संपादक राजेन्द्र माथुर , दास्तान ए जगजीत : कहाँ तुम चले गए आदि हैं ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पांच युवक ब्रिज के नीचे बेहोश एवं संदिग्ध हालात में मिले,जहरीली कच्ची शराब पीने का बताया जा रहा     |     यूपी की इन 31 सीटों पर टिकी दिल्ली की सत्ता, उलटफेर हुआ तो बिगड़ जाएगा BJP का खेल?     |     12 साल की उम्र में रेप, 13 की उम्र में बनी बिन ब्याही मां… बेटे ने दिलाया 30 साल बाद इंसाफ     |     घर की छतें उड़ीं, दुकान के शटर उखड़े, दीवारों में आई दरार… बॉयलर ब्लास्ट से दहल उठा डोंबिवली     |     कलकत्ता HC ने रद्द किए 5 लाख OBC सर्टिफिकेट… क्या है बंगाल में ओबीसी आरक्षण का गणित, क्या लोगों की नौकरियां जाएंगी?     |     धौलपुर: जिस 3 साल की बच्ची से राखी बंधवाई, उसी से किया रेप… फिर मारकर चंबल में फेंका     |     चौड़ीकरण की जद में आए 18 धार्मिक स्थल, बुलडोजर लेकर हटाने पहुंची पुलिस… धरने पर बैठ गईं महिलाएं     |     बंगाल में साइक्लोन ‘रेमल’ मचा सकता है बड़ी तबाही, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट     |     कानपुर: 7 महीने पुराना हिट एंड रन केस, 2 बच्चों की हुई थी मौत…. पुणे रोडरेज के बाद जागी पुलिस ने आरोपी को पकड़ा     |     बुद्ध पूर्णिमा के पर भगवान बुद्ध की हुई पूजाअर्चना बड़ी संख्या मे इकट्ठा हुए बौद्ध अनुयायी     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811