Let’s travel together.

मां लक्ष्मी को आकर्षित करता है इस तेल का दीपक, माघ पूर्णिमा पर अवश्य जलाएं

0 24

शास्त्रों में माघ पूर्णिमा तिथि बहुत ही शुभ मानी जाती है। इस व्रत को करने से अक्षय फलों की प्राप्ति होती है। इस दिन खास तौर पर भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है। माघ पूर्णिमा के दिन स्नान और दान-पुण्य करने का भी खास महत्व है। इस बार माघ पूर्णिमा 24 फरवरी को मनाई जाएगी। माना जाता है कि इस दिन माता लक्ष्मी की आराधना करने से व्यक्ति की हर मनोकामना पूरी होती है और कोई भी इच्छा अधूरी नहीं रहती। माघ पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी की पूजा के दौरान इस खास तेल का दीपक जलाना चाहिए। जिससे वो आकर्षित होकर सदा आपके अंग-संग रहें।

माघ पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी की पूजा करने के बाद उनके समक्ष अलसी के तेल का दीपक जलाएं। अलसी का दीया जलाना बहुत ही शुभ होता है। इससे मां लक्ष्मी जल्दी प्रसन्न होती हैं। जीवन में धन-धान्य की कमी नहीं होती, साथ ही संकटों से मुक्ति मिलती है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, माघ पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी के समक्ष अलसी का दीपक जलाने से धन आगमन के स्रोत बनने लगते हैं। कर्जों से मुक्ति मिलती है और शत्रु भय का नाश होता है।

माघ पूर्णिमा के दिन अलसी का दीपक पीपल के पेड़ के नीचे भी जलाना चाहिए। माना जाता है कि पीपल के पेड़ में मां लक्ष्मी का वास होता है। इससे महालक्ष्मी आपकी तरफ आकर्षित होंगी और आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी।

माघ पूर्णिमा के दिन अलसी के बीजों को मां लक्ष्मी के चरणों में रख दें और पूरी विधि-विधान से पूजा करें। फिर इसे घर अथवा दुकान की तिजोरी या धन स्थान पर लाल रंग के कपड़े में लपेटकर रख दें। ऐसा करने से धन में वृद्धि होती है और तरक्की के रास्ते खुलते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

राजेश बादल की नई किताब::“यह अंतिम था, जिसे पोर्टल प्रकाशित करने का साहस नहीं दिखा सका और मैंने यह कॉलम बंद कर दिया।“     |     क्षेत्र मे दहशत फैलाने वाले कुख्यात शराब तस्कर व आदतन आरोपी  NSA में गिरफ्तार कर केन्द्रीय जेल भोपाल भेजा गया     |     कुंडलपुर में आचार्य पदारोहण न भूतों न भविष्यति,एक नहीं दो दो मोहन बने साक्षी     |     सात दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा का समापन     |     प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में दिल्ली की तीन सदस्य टीम का निरीक्षण     |     सप्त दिवसीय हनुमत शिव पंचायत, प्राण प्रतिष्ठा एवं राम कथा प्रवचन का आयोजन,कलश यात्रा निकली     |     नवरात्र के आखिरी दिन मंदिरों में भक्तों की रही भीड़     |     सवारी ऑटो को एसडीएम के जीप चालक ने मारी टक्कर, एक की मौत,चैत्र दुर्गा माता की अष्टमी पर पूजन करने रायसेन आया था आदिवासी परिवार     |     श्रीरामनवमी पर शहर में निकली जवारो की शोभा यात्रा, मिश्रा तालाब पर किया गया विसर्जन     |     दैवियां हमारे जीवन में नौ दिन के लिए नहीं बल्कि सदा के लिए परिवर्तन चाहती हैं- ब्रह्माकुमारी रुक्मिणी दीदी     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811