Let’s travel together.

चाणक्य नीति-घर में में दिख रहे हैं अगर ऐसे संकेत, तो घर बचाने के लिए तुरंत हो जाएं सावधान

0 338

आचार्य चाणक्य ने द्वारा नीतिशास्त्र में जीवन के हर क्षेत्र से संबंधित महत्वपूर्ण बातों का जिक्र किया गया है। यदि इन बातों को ध्यान में रखा जाए तो व्यक्ति समस्याओं से तो बच ही सकता है साथ ही एक संतुष्ट और सफल जीवन भी व्यतीत कर सकता है। नीतिशास्त्र के अनुसार घर में गरीबी आने से पहले उसके संकेत मिलते हैं। इन संकेतों के माध्यम से यह जाना जा सकता है कि भविष्य में घर की आर्थिक स्थिति कैसी हो सकती है। आइए जानते हैं क्या हैं वो संकेत और क्या कहती है चाणक्य नीति इस बारे में
घर में पूजा पाठ न होना
आचार्य चाणक्य के अनुसार जिस घर में पूजा नहीं होती या लोग जहां ईश्वर का ध्यान नहीं लगाते उस घर में सुख-समृद्धि आनी बंद हो जाती है। इसके साथ ही घर में रह रही लोगों के बीच प्रेम भी कम हो जाता है और इस कारण लक्ष्मी माता वहां निवास नहीं करतीं। ये आने वाले आर्थिक संकट का बड़ा संकेत है।
बड़े-बुजुर्गों का अपमान करना
आचार्य चाणक्य के अनुसार घर में सभी बड़े बुजुर्गों का सम्मान करना चाहिए। जिस घर में बड़े बुजुर्गों का अपमान होने लगे समझ लीजिए उस घर में बुरे दिन आने वाले हैं। बड़े बुजुर्गों के साथ गलत व्यवहार करने वाले लोग जीवन में कभी भी खुश नहीं रहते। घर में बड़े बूढ़ों का अपमान करने वालों के घर कभी बरकत नहीं होती। ये आर्थिक संकट का एक संकेत माना जा सकता है।
घर में क्लेश होना
वैसे तो जिस घर में चार लोग रहते हैं वहां थोड़ी बहुत बहस होना लाज़मी है। मतलब यदि आपके घर में कई लोग हैं तो उनके बीच विचारों का मतभेद हो सकता है। लेकिन आचार्य चाणक्य के अनुसार मतभेद मिटाएं जा सकते हैं लेकिन यदि मनभेद हो गया तो उस घर में हमेशा झगड़ा होता रहेगा। चाणक्य के नीतिशास्त्र के अनुसार जिस घर में 24 घंटे सिर्फ क्लेश होता रहता है उस घर में आर्थिक तरक्की संभव नहीं है। इसलिए ये भी आने वाले संकट का संकेत है।
तुलसी के पौधे का सूख जाना
सामान्यतौर पर हर घर में तुलसी का पौधा लगाया जाता है और उसकी पूजा की जाती है। तुलसी का पौधा शुभता का प्रतीक है। आचार्य चाणक्य के अनुसार यदि घर पर कोई विपदा आने वाली होती है तो आपके घर का तुलसी का पौधा सूखने लगता है। यह भी आर्थिक संकट का संकेत है, इसलिए ऐसे में सावधानी बरतनी चाहिए।
कांच का बार-बार टूटना
आचार्य चाणक्य के अनुसार यदि आपके घर में बार-बार कांच टूटता है तो यह धन-हानि दर्शाता है। साथ ही घर में आने वाली दरिद्रता का भी संकेत होता है। इसलिए कांच का बार टूटना भी आर्थिक संकट का संकेत है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

मध्यप्रदेश वैश्य महासम्मेलन की महिला इकाई की संभाग प्रभारी बनी डॉ रश्मि गुप्ता     |     उप-मुख्यमंत्री राजेंद्र शुक्ल ने “अर्बन मोबिलिटी एंड इमर्जिंग टेक्नोलॉजी” सेमिनार का शुभारंभ किया     |     संयुक्त किसान मोर्चा मप्र ने सांसदों को ज्ञापन सौंपा     |     मनरेगा में भृष्टाचार के आरोपों की जांच शुरू     |     किसी अप्रिय घटना के पहले पुलिस ने विक्षिप्त महिला को भेजा भिक्षुक पुनर्वास केंद्र     |     अनियंत्रित बाइक बिजली पोल से टकराई, मोबाइल टावर के पास खंती में गिरी, बाइक सवार युवक की मौत     |     TODAY :: राशिफल शुक्रवार 19 जुलाई 2024     |     बिजली करंट लगने से किसान की मौत, एक घायल लाइनमैन और उसके हेल्पर ने 25 हजार लेकर जोड़े थे बिजली के तार     |     विश्व धरोहर में शामिल साँची में रेलवे स्टेशन पर नही हे ट्रेनों का स्टापेज,पर्यटक होते हे परेशान     |     सांची विश्वविद्यालय में 500 पौधे लगाए गए, पूर्व मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने किया पौधारोपण     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811