Let’s travel together.

चाणक्य नीति के अनुसार शत्रु को कभी कमजोर समझने की भूल न करें

0 363

चाणक्य नीति के अनुसार शत्रु को कभी कमजोर समझने की भूल नहीं करनी चाहिए. शत्रु को पराजित करना चाहते हैं तो चाणक्य की ये सलाह आपके काम आ सकती है.

चाणक्य नीति के अनुसार शत्रु दो प्रकार के होते है, एक शत्रु वो है जिसे हम देख सकते हैं, दूसरा शत्रु वो है जिसे हम देख नहीं सकते हैं. शत्रु कैसा भी हो, उसका मकसद सिर्फ हानि पहुंचाना ही होता है. सफलता की तरफ अग्रसर रहने वालों के शत्रु अधिक होते हैं. ये शत्रु सफलता के मार्ग में बाधा पहुंचाने का कार्य करते हैं. शत्रु को यदि पराजित करना चाहते हैं तो आचार्य चाणक्य की इन बातों पर अवश्य गौर करना चाहिए.

धैर्य बनाए रखें- चाणक्य नीति के अनुसार मनुष्य को विपदा या परेशानी आने पर घबराना नहीं चाहिए. जो व्यक्ति मुसीबत आने पर धैर्य खो देता है, उसे शत्रु आसानी से पराजित कर देता है. इसलिए किसी भी परिस्थिति में व्यक्ति को अपना धैर्य नहीं खोना चाहिए.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पड़ोसी से विवाद में किया हवाई फायर, प्रकरण दर्ज, लाइसेंस निरस्त करने की अनुशंसा     |     ओबेदुल्लागंज वनमंडल के चिकलोद रेंज की आशापुरी बीट में मिला 12 दिन पुराना टाइगर का शव     |     TODAY :: राशिफल सोमवार 15 जुलाई 2024     |     भाजपा विधायक के इस्तीफे की धमकी के बाद होमगार्ड सैनिक पर गिरी गाज, मारपीट करने वाले होमगार्ड सैनिक को निलंबित किया गया     |     रोजगारोंन्मुखी शिक्षा के साथ भारतीय संस्कृति की समावेशी शिक्षा मिलेगी – उप मुख्यमंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल     |     सरकार का आदेश बेअसर, हाइवे पर अब भी लग रहा पशुओं का जमाबड़ा,बढ़ रही दुर्घटनाएं     |     दीवानगंज रेलवे स्टेशन के पास ट्रेन से गिरा युवक गंभीर रूप से हुआ घायल 108 से पहुंचाया अस्पताल     |     खबर का असर :: स्कूल के आसपास प्रशासन ने हटवाये कचरे के ढेर यह कीचड गंदगी     |     दुर्गानगर मंडल बेस नगर एवं वेत्रवती मंडल की कामकाजी बैठक संपन्न     |     शिवराज सिंह चौहान द्वारा रायसेन जिले के ग्राम रतनपुर में ‘‘एक पेड़ मॉ के नाम‘‘ अभियान में आम का पौधा रोपित किया     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811