Let’s travel together.

ड्रोन कैमरे से हो रहा गांव गांव सर्वे, घर आंगन तक हो रहा कैमरे मैं कैद

0 468

विदिशा से सुरेन्द्र राजपूत की रिपोर्ट

सिरोंज में इन दिनों हमारे गांव ड्रोन की निगरानी में है। एरोप्लेन जैसा नजर आने वाला यह अत्याधुनिक ड्रोन तीन किलोमीटर के रेडियम में आने वाले गांव का एक साथ सर्वे कर रहा है। इस ड्रोन के जरिए चूना मार्किंग की बाउंड्री से मकानों के डिजिटल नक्शे तैयार करने के साथ घर की सीमा तय की जा रही है। जिससे गांव में रहने वाले ग्रामीणों को अब मकान के नक्शे की झंझट ही खत्म हो जाएगी।


तहसील के समस्त गांवों में यह अभियान चल रहा है इसे ग्रामीण आबादी संपत्ति सर्वेक्षण अभियान नाम दिया गया है। तहसील में एक महीने तक यह अभियान चलेगा सर्वे ऑफ इंडिया की टीम विवेक जांगेर, रमेष कषवाह, राजस्व विभाग से आर.आई अमित कुमार गुप्ता एंव पटवारी गांव गांव में पहुंचकर सर्वे कर रहे हैं। वही जानकारी देते हुए पटवारी सुनील शर्मा ने बताया कि क्षेत्र में गुरुवार को ग्राम पंचायत चाठौली मैं सर्वे का कार्य किया गया है यह एक तरह का आबादी सर्वे है इसे सर्वे ऑफ इंडिया जिला पंचायत और राजस्व विभाग मिलकर तैयार कर रहा है। इसके बनने के बाद गांव की सीमा भी पता चल सकेगी। इस दौरान ग्राम चाठौली के प्रधान रणवीर सिंह, जीआरएस राधारमन त्यागी एंव ग्रामवासी सर्वे के दौरान मौजूद रहे।गांव में पंचायत स्तर पर पट्टे आवंटित किए जाते हैं इसका कोई भी सरकारी रिकॉर्ड नहीं रहता है इस वजह से गांव में कई तरह की समस्याओं का समाधान नहीं निकल पाता। यह रिकॉर्ड पंचायत के पास भी नहीं रहता अभी हमारे पास गांव की सीमा का नक्शा रहता है उसी आधार पर सभी कामकाज तय किए जाते हैं सर्वे के बाद प्रत्येक घर का नक्शा हमारे सामने आ जाएगा इससे गांव की सीमा भी नए सिरे से तय हो सकेगी। यदि बढ़ाने की जरूरत हुई तो गांव की सीमा को बढ़ा सकते हैं इसकी कॉपी पंचायत के पास भी रहेगी इससे पंचायत को भी अपने यहां होने वाले विकास कार्यों में मदद मिलेगी पूरा रिकॉर्ड ऑनलाइन होने के कारण ग्राम में ग्रामीणों को भी मदद मिलेगी। इस सर्वे से ग्रामीणों को खसरे की तरह मकान के भू स्वामित्व का दर्जा भी मिल जाएगा। जिन गांवों में आबादी घोषित हो चुकी है केवल उन जगहों का सर्वे किया जाएगा। सर्वे ऑफ इंडिया की टीम व ग्राम पंचायत और राजस्व विभाग तीनों मिलकर यह सर्वे कर रहे हैं यह आबादी सर्वे है जितने भी घर बने हैं उन ग्रामीणों का रिकॉर्ड मिल जाएगा इससे पंचायत को रखरखाव में आसानी होगी।
ऐसे बना रहे नक्शा – सर्वे ऑफ इंडिया के पास मौजूदा ड्रोन कैमरा हाई रिजोंल्यूषन वाला है। यह एक बार में 120 मीटर ऊंचाई तक उड़ सकता है यह जैसे जैसे ऊपर जाएगा वैसे वैसे मकानों और गांव की तस्वीरें लेता जाएगा। एक बार में 4 से 500 तस्वीरें लेगा इन तस्वीरों को सर्वे ऑफ इंडिया के सॉफ्टवेयर के माध्यम से कांफाइल किया जाएगा। तब प्रत्येक घर का नक्शा बनकर तैयार हो जाएगा इसकी कॉपी पंचायत व घर मालिक को भी दी जाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

दैवियां हमारे जीवन में नौ दिन के लिए नहीं बल्कि सदा के लिए परिवर्तन चाहती हैं- ब्रह्माकुमारी रुक्मिणी दीदी     |     राजेश बादल की नई किताब::“यह अंतिम था, जिसे पोर्टल प्रकाशित करने का साहस नहीं दिखा सका और मैंने यह कॉलम बंद कर दिया।“     |     क्षेत्र मे दहशत फैलाने वाले कुख्यात शराब तस्कर व आदतन आरोपी  NSA में गिरफ्तार कर केन्द्रीय जेल भोपाल भेजा गया     |     कुंडलपुर में आचार्य पदारोहण न भूतों न भविष्यति,एक नहीं दो दो मोहन बने साक्षी     |     सात दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा का समापन     |     प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में दिल्ली की तीन सदस्य टीम का निरीक्षण     |     सप्त दिवसीय हनुमत शिव पंचायत, प्राण प्रतिष्ठा एवं राम कथा प्रवचन का आयोजन,कलश यात्रा निकली     |     नवरात्र के आखिरी दिन मंदिरों में भक्तों की रही भीड़     |     सवारी ऑटो को एसडीएम के जीप चालक ने मारी टक्कर, एक की मौत,चैत्र दुर्गा माता की अष्टमी पर पूजन करने रायसेन आया था आदिवासी परिवार     |     बदले की आग में जल रहे नेतन्याहू, ईरान पर आज ले सकते हैं ‘विनाशक’ फैसला     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811