Let’s travel together.

सकट चौथ का व्रत:शुभ मुहूर्त, पूजा विधि,कथा

0 442

सकट चौथ का व्रत हर महीने पड़ता है लेकिन माघ महीने में पड़ने वाले सकट चौथ का विशेष महत्व होता है। इसे संकष्टी चतुर्थी या तिलकुट चौथ के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन जिन स्त्रियों को संतान प्राप्त नहीं हो रही होती वह संतान प्राप्ति के लिये यह व्रत रखती हैं और जिन माताओं की संतान हैं वह अपनी संतान की लंबी आयु, स्वास्थ्य और समृद्धि के लिए यह व्रत रखती हैं। कहा जाता है कि इस व्रत को रखने से भगवान गणेश सभी कष्टों से मुक्ति दिलाते हैं। वर्ष 2022 में सकट चौथ व्रत 21 जनवरी, 2022 को है।

सकट चौथ शुभ मुहूर्त

21 जनवरी 2022 को प्रातः 08 बजकर 54 मिनट से चतुर्थी तिथि शुरू होगी और 22 जनवरी 2022 को प्रातः 09 बजकर 17 मिनट पर समाप्त होगी। इस दिये गये समय में इस व्रत को करना अति शुभ रहता है।

सकट चौथ व्रत की विधि –

व्रत वाले दिन सुबह सिर धोकर नहा लें।
हाथों में मेहंदी लगाएं।
सफेद तिल और गुड़ के तिलकुट बनाएं।
एक पटरे पर जल का लोटा, रोली, चावल, एक कटोरी में तिलकुट और कुछ रुपये रखें।
जल के लोटे पर रोली से सतिया बनायें।
संकट चौथ और गणेश जी की कथा सुनें। इस दौरान थोड़ा सा तिलकुट हाथ में ले लें।
कथा सुनने के बाद एक कटोरी में तिलकुट और रुपये रखकर सासुु मां के पैर छूकर इसे दे दें।
जल का लोटा और हाथ में रखे तिल उठाकर मंदिर में रख दें।
रात को चंद्र दर्शन नहीं करने चाहिए बल्कि चंद्र की छायां पृथ्वी पर पड़ने पर गणेश जी व चंद्रमा का ध्यान करके व्रत खोल लें।
जो भी भगवान गणेश जी की संकट चतुर्थी की कहानी सुनाए उसे कुछ रुपये और तिलकुट देंवे।
व्रत खोलते समय तिलकुट अवश्य खायें।

संकट चतुर्थी की कथा

एक बुढ़िया थी। वह बहुत ही गरीब और दृष्टिहीन थीं। उसका एक बेटा और बहू थे। वह बुढ़िया सदैव गणेश जी की पूजा किया करती थी। एक दिन गणेश जी प्रकट होकर उस बुढ़िया से वरदान मांगने को कहा,”बुढ़िया ने कहा कि मुझे मांगना नहीं आता, मैं अपने बेटे और बहु से पूछकर बताती हूं कि मुझे क्या चाहिए।”

कुछ समय के बाद बुढ़िया ने भगवान गणेश जी से इस प्रकार से वरदान मांगा, “यदि आप प्रसन्न हैं, तो मुझे नौ करोड़ की माया दें, निरोगी काया दें, अमर सुहाग दें, आंखों की रोशनी दें, नाती दें, पोता, दें और सब परिवार को सुख दें और अंत में मोक्ष भी दें।”

यह सुनकर तब गणेशजी बोले, “माता तुमने तो हमें ठग लिया। फिर भी जो आपने मांगा है वचन के अनुसार सब मिलेगा।”

उधर बुढ़िया मां ने जो कुछ मांगा वह सब कुछ मिल गया।

हमें भी व्रत पर यह मन के भाव रखते हुए प्रार्थना करनी चाहिए कि, ” हे गणेश जी ! महाराज जैसे आपने उस बुढ़िया मां को सब कुछ दिया, वैसे ही सबको देना एवं प्रदान की गयी सभी वस्तुओं का सुख भी प्रदान करना।”

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

हरिद्वार: मंदिर में दर्शन करने आए श्रद्धालुओं को पुजारियों ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, क्या रही वजह?     |     मनोज तिवारी ने 10 साल में क्या किया? नॉर्थ ईस्ट दिल्ली से टिकट मिलने पर कन्हैया का BJP पर हमला     |     उज्जैन: लाठी, पाइप-सरिया…. जो मिला उससे पीटा, शादी समारोह बना अखाड़ा, बुलानी पड़ी पुलिस     |     केजरीवाल की याचिका पर थोड़ी देर में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, ED की गिरफ्तारी को दी है चुनौती     |     10वीं तक पढ़ाई, 5 से ज्यादा आपराधिक मामले, जानें कौन है सलमान के घर के बाहर फायरिंग करने वाला कालू     |     नेहरू ने म्यांमार को गिफ्ट में दिया कोको द्वीप, अब इस पर चीन का नियंत्रण- बीजेपी नेता का कांग्रेस पर हमला     |     कांग्रेस Vs बीजेपी: सहयोगियों के आगे कौन, कहां झुका? 543 सीटों पर सीट समझौते की 5 अहम बातें     |     अभी और भड़केगी जंग की आग, ईरान से बदले का प्लान तैयार, इजराइल कभी भी कर सकता है हमला     |     चैत्र नवरात्रि के 7 वां दिन :: मां के कालरात्रि रूप की पूजा     |     TODAY :: राशिफल सोमवार 15 अप्रेल 2024     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811