Let’s travel together.

शनिवार के दिन करें ये चार उपाय, भागेगा दूर दुर्भाग्य

0 123

शनिवार का दिन शनि देव को समर्पित माना जाता है। कहा जाता है कि शनि ग्रह जातक के जीवन पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह के प्रभाव डाल सकता है। शनि एक ऐसा ग्रह है जो आपकी किस्मत को चमकाकर आपको राजा बना सकता है और आपको बर्बाद करके राजा से रंक भी बना सकता है। साथ ही शनि देव के प्रकोप से जातकों के जीवन में नौकरी और व्यापार से संबंधित कई तरह की परेशानियां आती रहती हैं। इन परेशानियों के निवारण के लिए शास्त्रों में शनिवार के दिन शनि देव की विशेष पूजा तथा कुछ उपाय करना लाभदायक बताया गया है। कहा जाता है कि कर्मफल दाता शनि देव को प्रसन्न करने से जातकों के जीवन में आ रही नौकरी और व्यापार से संबंधित परेशानियां दूर हो जाती हैं।

मान्यताओं के अनुसार शनिदेव ने हनुमान जी को ये वचन दिया था कि वे कभी भी उनके भक्तों को परेशान नहीं करेंगे। इसलिए शनिवार के दिन हनुमान जी की पूजा करनी चाहिए। शनिवार के दिन उन्हें चोला चढ़ाएं, हनुमान चालीसा, सुंदरकांड आदि का पाठ करें।

पौराणिक कथाओं के अनुसार पीपल में 33 कोटि देवताओं का वास होता है। साथ ही कहा जाता है कि पीपल को भगवान श्रीकृष्ण ने अपना स्वरूप बताया है और शनिदेव भगवान श्रीकृष्ण के परम भक्त हैं। ऐसे में शनिवार के दिन पीपल की पूजा करने पर वे अत्यंत प्रसन्न होते हैं और भक्तों के कष्ट दूर करते हैं।

मान्यताओं के अनुसार अगर आपके जीवन में शनि की खराब स्थितियों की वजह से कुछ अच्छा नहीं हो रहा है, तो आप शनिवार के दिन सातमुखी रुद्राक्ष को गंगाजल से धोकर धारण करें। कुछ ही दिनों में इसके शुभ प्रभाव मिलने लगेंगे और आपकी सारी समस्याएं दूर हो जाएंगी।

शनिवार के दिन सरसों का तेल दान करना शुभ माना जाता है। आप शनिवार के दिन सरसों के तेल को दान कर सकते हैं। वहीं दान करने से पहले इसे एक बर्तन में लें और इसमें अपना चेहरा देखें। इसके बाद दान करें। कहा जाता है कि कुछ शनिवार तक लगातार ऐसा करने से शनि से जुड़ी समस्याएं काफी हद तक दूर हो जाती हैं।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

राजेश बादल की नई किताब::“यह अंतिम था, जिसे पोर्टल प्रकाशित करने का साहस नहीं दिखा सका और मैंने यह कॉलम बंद कर दिया।“     |     क्षेत्र मे दहशत फैलाने वाले कुख्यात शराब तस्कर व आदतन आरोपी  NSA में गिरफ्तार कर केन्द्रीय जेल भोपाल भेजा गया     |     कुंडलपुर में आचार्य पदारोहण न भूतों न भविष्यति,एक नहीं दो दो मोहन बने साक्षी     |     सात दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा का समापन     |     प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में दिल्ली की तीन सदस्य टीम का निरीक्षण     |     सप्त दिवसीय हनुमत शिव पंचायत, प्राण प्रतिष्ठा एवं राम कथा प्रवचन का आयोजन,कलश यात्रा निकली     |     नवरात्र के आखिरी दिन मंदिरों में भक्तों की रही भीड़     |     सवारी ऑटो को एसडीएम के जीप चालक ने मारी टक्कर, एक की मौत,चैत्र दुर्गा माता की अष्टमी पर पूजन करने रायसेन आया था आदिवासी परिवार     |     श्रीरामनवमी पर शहर में निकली जवारो की शोभा यात्रा, मिश्रा तालाब पर किया गया विसर्जन     |     दैवियां हमारे जीवन में नौ दिन के लिए नहीं बल्कि सदा के लिए परिवर्तन चाहती हैं- ब्रह्माकुमारी रुक्मिणी दीदी     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811