Let’s travel together.

महाशिवरात्रि पर ऐसे करें पूजा, जल्द बनेना शादी का योग, वैवाहिक जीवन होगा खुशहाल

0 6

महाशिवरात्रि का त्योहार हिंदू धर्म में बहुत खास माना जाता है. भगवान शिव को हिंदू धर्म में सभी देवताओं में प्रमुख माना जाता है और महाशिवरात्रि का त्योहार भगवान शिव को ही समर्पित होता है. महाशिवरात्रि का त्योहार भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त करने का दिन है. मान्यता है इस दिन विधि विधान के साथ भगवान शिव का व्रत और पूजन करने से भगवान शिव अपने भक्तों पर प्रसन्न होते हैं और उनको आशीर्वाद देते हैं.

महाशिवरात्रि व्रत का महत्व जानें

महाशिवरात्रि के व्रत का बहुत महत्व माना जाता है. यह व्रत मनुष्य का कल्याण करने वाला अति कल्याणकारी व्रत है. शास्त्रों के अनुसार जो भी भक्त पूर्ण श्रद्धा के साथ महाशिवरात्रि का व्रत और पूजन करता है उसके सभी प्रकार के दुख और कष्ट दूर होते हैं और साधक की मनोकामनाएं भी पूर्ण होती हैं, जीवन में सुख शांति वैभव और समृद्धि आती है और अंत समय में मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है.

मान्यताओं के अनुसार, विधि विधान के साथ महाशिवरात्रि का व्रत, पूजन और जलाभिषेक करने पर वैवाहिक जीवन से जुड़ी परेशानियां दूर होती हैं और वैवाहिक जीवन खुशहाल बनता है.

महाशिवरात्रि का व्रत अविवाहित कन्याएं के लिए विशेष कल्याणकारी माना जाता है. मान्यता है कि जो भी अविवाहित कन्याएं शिवरात्रि पर भगवान शिव का व्रत और पूजन करती हैं उनके विवाह में आ रहीं बाधाएं दूर हो जाती हैं और शीघ्र ही विवाह के संयोग बनते हैं. और अगर विवाहित महिलाएं इस व्रत को करती हैं तो उनको अखंड सौभाग्य, सुख और समृद्धि की प्राप्ति होती है.

पौराणिक कथा के अनुसार महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव और मां पार्वती का विवाह हुआ था. फाल्गुन चतुर्दशी तिथि पर भगवान शिव ने मां पार्वती के साथ विवाह किया था, इसी वजह से हर साल फाल्गुन चतुर्दशी तिथि को भगवान शिव और मां पार्वती के विवाह की खुशी में महाशिवरात्रि का त्योहार मनाया जाता है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

राजेश बादल की नई किताब::“यह अंतिम था, जिसे पोर्टल प्रकाशित करने का साहस नहीं दिखा सका और मैंने यह कॉलम बंद कर दिया।“     |     क्षेत्र मे दहशत फैलाने वाले कुख्यात शराब तस्कर व आदतन आरोपी  NSA में गिरफ्तार कर केन्द्रीय जेल भोपाल भेजा गया     |     कुंडलपुर में आचार्य पदारोहण न भूतों न भविष्यति,एक नहीं दो दो मोहन बने साक्षी     |     सात दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा का समापन     |     प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में दिल्ली की तीन सदस्य टीम का निरीक्षण     |     सप्त दिवसीय हनुमत शिव पंचायत, प्राण प्रतिष्ठा एवं राम कथा प्रवचन का आयोजन,कलश यात्रा निकली     |     नवरात्र के आखिरी दिन मंदिरों में भक्तों की रही भीड़     |     सवारी ऑटो को एसडीएम के जीप चालक ने मारी टक्कर, एक की मौत,चैत्र दुर्गा माता की अष्टमी पर पूजन करने रायसेन आया था आदिवासी परिवार     |     श्रीरामनवमी पर शहर में निकली जवारो की शोभा यात्रा, मिश्रा तालाब पर किया गया विसर्जन     |     दैवियां हमारे जीवन में नौ दिन के लिए नहीं बल्कि सदा के लिए परिवर्तन चाहती हैं- ब्रह्माकुमारी रुक्मिणी दीदी     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9425036811